Saturday, December 18, 2010

Hindi Poem by Swasthika. P.S (X A)




-->
मेरी माँ



मेरी मॉं ने बहुत प्यार है
उसकी रुप म‍‍ आकर्षण है I
उसकी हसना अमृत समान है
उसकी नयन कमल समान है I
सरल सुंदर चंचल भुवी में
मॉं एक ही है त्याग मयी I
उसकी कोमल पादचरण में
मैं हमेशा खुशी रहती हूँ I
मेरा घर है जन्मस्थान
मॉं की गोद है पुण्यस्थान I
प्रत्यक्ष देवता है मेरी मॉं
उसकी पूजा करना मेरी काम I

No comments:

Post a Comment